Book Service Appointment
आज दिनाँक 29-अगस्त-2019 का राशिफल
August 28, 2019
आज 30-अगस्त-2019 का पञ्चाङ्ग
August 30, 2019

हरितालिका(तीज)व्रत और पूजन कब करें?

                                        :-तीज का व्रत पूजन कब करें:- 

हरितालिका व्रत जिसे पारम्परिक भाषा में तीज व्रत भी कहा जाता है।यह व्रत सुहागिनों के पर्व के रूप में प्रचलित हैं। यह व्रत भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष में तृतीया को किया जाता है। मनोनुकूल पति की प्राप्ति हेतु कन्यायें  भी इस व्रत को करती हैं क्यूँकि इस व्रत को पार्वती जी ने शिव जी को प्राप्त करने हेतु किया था।इस व्रत में भगवान शिव और माता पार्वती का पूजन किया जाता है हरितालिका तीज व्रत के दिन महिलाएं निर्जला व्रत करती हैं।सुहागिन स्त्रियाँ अपने अखण्ड सौभाग्य,पुत्र की मंगलकामना एवं कुल की रक्षा  हेतु इस व्रत को पूर्ण करती हैं।

         हरितालिका(तीज) व्रत के विषय में द्वन्द की स्थिति है कुछ लोग यह व्रत 1 सितम्बर दिन रविवार के दिन में 11:02 बजे से प्रारम्भ हो रहे तृतीया के कारण रखना चाहते हैं,लेकिन इस व्रत में तिथि पूर्वविद्धा न ग्रहण कर परविद्धा अर्थात तृतीया और चतुर्थी के युग्म में इस व्रत को करने का निर्देश शास्त्रों में उल्लेखित है।

क्यूँकि “युग्मतृतीयां पुरुषं निहन्ति”अर्थात द्वितीया युक्त तृतीया के योग में तीज व्रत रखना पति के लिये हानिकारक है। 

हरितालिका व्रत के विषय में शास्त्र में निर्णीत है कि-“तत्र चतुर्थी सहिता या तु सा तृतीया फलप्रदा।अवैधव्यकरा स्त्रीणाम् पुत्रपौत्र प्रवर्धिनी॥”
उपर्युक्त श्लोक से स्पष्ट है कि यह व्रत भाद्रपद माह के चतुर्थी युक्त तृतीया में किया जायेगा।
तदनुसार यह व्रत दिनाँक 02 सितम्बर दिन सोमवार को किया जायेगा।महावीर पंचाङ्ग वाराणसी के अनुसार तृतीया दिन में 09:02 बजे तक है उसके बाद चतुर्थी हो जायेगी।
तृतीया के अन्तर्गत हीं समस्त पूजन की क्रिया को पूर्ण कर लेना श्रेयष्कर होगा।
भगवान शिव और माता पार्वती आप सभी माता- बहनों की मनोकामना पूर्ण करें।
ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ …………………………

Comments are closed.